SEO Kya Hai – What is SEO in Hindi एसईओ कैसे करें 2020

Search Engine Optimization Kya Hai Aur Kaise Karte hai सभी नए ब्लॉगर के मन में ये सवाल जरुर आता है SEO Kya Hai – What is SEO in Hindi और ये एसईओ कैसे करें इसके फायदे क्या होते है .

ज्यादातर लोग बलोगिंग की दुनिया में पैसे कमाने के लिये आते है और ब्लोगिंग के द्वारा पैसा तभी मिलेगा जब आपके ब्लॉग पर ट्राफिक होगी और ट्राफिक के लिये सर्च इंजन में टॉप पर रैंकिंग जरुरी है, जब रैंकिंग नहीं हो पाती है तब SEO की याद आती है और ये नये ब्लॉगर के साथ-साथ कभी न कभी जरुर होता है .

वैसे रैंकिंग के तो बहुत सारे फैक्टर्स होते है, लेकिन उनमे से SEO की भी अपनी एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है .

ब्लोगिंग की दुनिया में बिना SEO के Organic Traffic पाना नामुमकिन जैसा है, क्योंकि जब तक आपका पोस्ट सही तरीके से Optimize नहीं होगा तब तक Search Engine में वह सही तरीके से रैंक नहीं करेगा .

यदि आप भी ऐसी ही कुछ समस्या का सामना कर रहे है और परेशान हो गये है, तो आज आप पूरी तरह से निश्चिन्त हो जायें क्योंकि आज मैं आपकी इस समस्या का समाधान लेकर आया हूँ . यदि आप इसको सही तरीके से follow करते है, तो यकीन मानिये 100% आप रैंक जरुर करेंगे .

क्योंकि मैं इस समस्या का सामना कर चूका हूँ, मैं कभी नया ब्लॉगर ही था और बहुत सारी गलतियों को करके सीखा और समझा है . इसीलिए आज मैं आपके साथ पूरा अनुभव शेयर करने वाला हूँ .

SEO Kya Hai - What is SEO in Hindi एसईओ कैसे करें 2020

आज इन्टरनेट की दुनिया ऐसे करोणों ब्लॉगर है . आप किसी एक टॉपिक पर इन्टरनेट पर कुछ सर्च करते है, तो आपको रिजल्ट के तौर पर लाखों ब्लॉग या वेबसाइट आती है, लेकिन उनमे से क्लिक सिर्फ कुछ ही ब्लॉग पर होता है जो सबसे टॉप पर रैंक करती है .

ऐसे में उन सभी ब्लॉगर की मेहनत बेकार हो जाती है, जिनके ब्लॉग पर ट्रैफिक जाती ही नहीं है . इसकी सिर्फ एक ही वजह होती है कि वह कहीं न कहीं कोई गलती कर रहे होते है . इसीलिए वो रैंक नहीं कर पाते है .

इसमें ज्यादा कोई परेशान होने की बात नहीं है . ये इतना भी कठिन नहीं है कि इसे आप नहीं कर सकते है इसे थोड़ा सावधानी पूर्वक समझना है . उसके बाद बड़ी आसानी से आप SEO कर सकते है . उसके बाद आपका ये सवाल SEO Kya Hai – What is SEO in Hindi एसईओ कैसे करें हमेशा-हमेशा के लिये समाप्त हो जायेगा .

SEO Kya Hai – What is SEO in Hindi

SEO मतलब Search Engine Optimization एक ऐसी तकनीकी है, जिसके माध्यम से अपने ब्लॉग पोस्ट को इस तरह से Optimize करते है कि वह सर्च इंजन में टॉप पर रैंक कर सके, और हमारे ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा Organic Traffic आ सके .

Search Engine क्या है, ये आज के समय में लगभग सभी को मालूम होगा . Search Engine तो बहुत सारे है जैसे – Yahoo, Bing लेकिन इन सब में Google सबसे टॉप पर है ये दुनियां में सबसे ज्यादा use किया जाने वाला सर्च इंजन है .

आपको यदि Optimization की अच्छी जानकारी है, तो आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को सर्च इंजन में पहले पेज पर और पहले पोजीशन पर ला सकते है .

जिसको सही SEO की जानकारी नहीं हो वो कितना भी अच्छा कन्टेन्ट क्यों न लिखा हो यदि वो पोस्ट सही से Optimize नहीं है, तो वह कभी भी first रैंक पर नहीं आ सकता है .

पहले तो आब जाते थे पहले रैंक पर लेकिन आना संभव नहीं है . पहले जब हम किसी टॉपिक को सर्च करते थे तो उससे सम्बंधित ज्यादा ब्लॉग होते ही नहीं थे इसीलिए आसान था, लेकी आज Competition इतना बढ़ गया है कि यदि आप एक भी गलती करते है, तो उसका खामियाजा आपको भुगतना ही पड़ेगा .

आज सर्च इंजन में वही ब्लॉग पोस्ट पहले रैंक पर आते है जो सर्च इंजन फ्रेंडली होते है मतलब जो सही तरीके से Optimize किये गए होते है, जिससे सर्च इंजन को समझने में आसानी होती है कि आपके पोस्ट में क्या जानकारी दी गयी है .

मान लीजिये आपने google में कुछ सर्च किया जैसे Blogging क्या है तो आपको इसके लाखों रिजल्ट्स मिलेंगे जिसमे Blogging के बारे में जानकरी दी गयी होगी, लेकिन आप उसी पर क्लिक करेंगे जो पहले पेज पर होगा और first पोजीशन पर होगा ज्यादा सम्भावना इसी की होती है क्योंकि ये Human Nature है .

इसमें अब सबसे ज्यादा traffic कौन ले जायेगा और सबसे ज्यादा पोपुलर कौन होगा, जो सबसे पहले पेज पर, पहले रैंक पर है तो इसका मतलब ये बिलकुल भी नहीं कि इसमें सबसे अच्छी जानकारी दी गयी है और दुसरे में सही जानकारी नहीं इसीलिए वो पहले पोजीशन नहीं है . इसकी सबसे पड़ी वजह है कि जो पहले रैंक पर है उसने सबसे ज्यादा अच्छे से SEO किया है .

SEO Ka Full Form क्या है

SEO Full Form

Search Engine Optimization

SEO का हिन्दी में पूरा नाम – ” सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन

Blog या Website के लिये SEO क्यों जरुरी है

इन्टरनेट पर कोई भी blog या वेबसाइट बनाई जाती है, तो उसका main मकसद होता है बिज़नस करना मतलब उसको एक इनकम का स्रोत बनाना लेकिन या तभी संभव हो पाता है, जब उस पर visitor आये visitor मतलब ऑनलाइन की दुनिया में डिजिटल ग्राहक ( Customer ) है . जब visitor ही नहीं होंगे आपकी बातें किसी तक पहुँच ही नहीं रहे है, तो समझो आपकी पूरी मेहनत बेकार जा रही है .

जब सर्च इंजन में कोई भी keyword सर्च किया जाता है, तो सर्च इंजन उस keyword से related सभी website में मौजूद कन्टेन्ट को चेक करता है और यदि आपकी website में उस keyword से related कन्टेन्ट मौजूद फिर भो वो टॉप पोजीशन पर नहीं आ पा रहा है, तो फिर उस website पर traffic लाना बहुत मुस्किल है .

क्योंकि आपके कन्टेन्ट का SEO सही नहीं किया गया है, जिसके कारण सर्च इंजन उसको सही से रीड नहीं कर पा रहा है .

आपने यदि ब्लॉग बना लिया है और Quality के कन्टेन्ट भी लिख रहे है, तो SEO इतना भी मुस्किल काम नहीं कि आप उसे न कर सकें, आपने SEO भी अच्छा किया है और भी सबकुछ ठीक है और उसमे यदि आप Copy Content पोस्ट कर रहे है तब तो समझ लीजिये आप कभी रैंक कर ही नहीं सकते है और गलती से रैंक कर भी गए तो आपको Down होने में टाइम बिलकुल भी नहीं लगेगा .

सबकुछ सही होते हुये यदि आपने ब्लॉग पोस्ट का SEO अच्छे से कर दिया तो आपको रैंक करना ही है, यदि आपने अभी अपने पोस्ट का SEO किया है तो इसका रिजल्ट आपको तुरंत देखने को नहीं मिलेगा थोड़ा समय लगेगा लेकिन रैंक जरुर होगा .

Search Engine Kya Hai

SEO को और अच्छे से समझने के लिये पहले हम समझ लेते है कि सर्च इंजन क्या है और ये कैसे काम करता है .

हमे यदि कोई भी जानकारी ऑनलाइन सर्च करनी होती है, तो हमे सभी प्रकार की जानकरी किसी एक website पर नहीं मिल सकती है . यदि हम सोचे की डायरेक्ट किसी site को open करें और सभी जानकरी यही मिल जाएगी तो ये संभव नहीं है .

इसीलिए हमे एक सर्च इंजन की जरुरत पड़ती है, जो सभी वेबसाइट की जानकरी रखती हो किसमे कौन-सी जानकरी है . सर्च इंजन उन लाखों करोणों website को रीड करके रखता है और सर्च करने पर हमे पहले वही website मिलती है जिसमे सर्च किये गए keyword से सम्बंधित जानकारी होती है .

यदि आपने अपने ब्लॉग का सही तरीके से SEO किया हुआ है, तो सर्च इंजन अच्छे से रीड कर पायेगा और keyword सर्च किये जाने पर रिजल्ट में show होगा .

सर्च इंजन के पहले पेज पर ब्लॉग या वेबसाइट को दो तरीके से रैंक करती है .

  • पहला Organic listing
  • दूसरा Inorganic Listing

Organic listing क्या होता है

Organic listing उसको कहते हो जो ब्लॉग या वेबसाइट बिना पैसे खर्च किये, इसके लिये SEO मतलब Search Engine Optimization करना पड़ता है . ये सबसे अच्छा होता है क्योंकि इसमें बिना किसी पैसे खर्च किये आपका ब्लॉग या वेबसाइट टॉप पर रैंक करता है, लेकिन उसके लिये SEO करना पड़ता है .

Inorganic Listing क्या होता है

Inorganic Listing इस लिस्ट में वो blog या website शामिल होती है, जो रैंक तो करती है टॉप पर लेकिन उसके लिये पैसा आपको सर्च इंजन को देना पड़ेगा . जबतक आप पैसा देंगे तभी तक आपको वेबसाइट टॉप पर रैंक करेगा, ये एक प्रकार विज्ञापन हो गया इसमें ज्यादातर वो website शामिल रहती है जो Sale का काम करती है . ऐसी website के आगे आपको सर्च रिजल्ट में URL के सामने एक बॉक्स में Ad लिखा हुआ दिखाई देगा .

Types Of SEO In Hindi

अभी तक हमने जाना SEO क्या है और कैसे काम करता है . अब जानते है SEO कितने प्रकार का होता है . मुख्यतः SEO दो प्रकार के होते है पहले ON Page SEO और दूसरा Off Page SEO दोनों का काम काफी अलग होता है, जो अलग- अलग समय पर किये भी जाते है, आइये डिटेल्स में इनके बारे में जानते है .

  1. On Page SEO
  2. Off Page SEO
  3. Local SEO

SEO Kaise Kare

SEO दो प्रकार के होते है ये तो आप जान ही चुके है इन्ही दोनों तरीकों से SEO क्या जाता है .ज्यादातर ब्लॉग WordPress पर बने होते है और वर्डप्रेस पर आपको बहुत सारे फ्री Plugin मिलते है उसमे से कुछ ऐसे भी plugin मिलते है जैसे – Yoast SEO, All In One SEO जो काफी हदतक On Page SEO में मदत कर सकता है .

On Page SEO क्या है

On Page SEO के अंतर्गत कई सारे फैक्टर्स आते है, जो ब्लॉग को बनाने से लेकर उसमे Content लिखने तक शामिल है, मतलब जब हम अपने ब्लॉग को बनाते है तो कुछ ऐसा design करते है जो दिखने में Simple और अच्छा हो, उसकी speed अच्छी हो और Theme या template मोबाइल फ्रेंडली होना चाहिये .

टाइटल सही और responsive होना चाहिये, ब्लॉग पोस्ट के लिये Meta Description लिखना, Main Keyword का सही प्लेसमेंट करना, Permalink सही से लिखना ताकि सही से रैंक हो सके, Image Alt Tag, जरुरी keyword को Bold करना, Internal Link लगानाऔर External Link लगाना, Post length Maintain करना, Sitemap Optimization करना आदि होते है .

इसके मुख्य फैक्टर्स के बारे में विस्तार से जानते है, जिससे आप सही से SEO कर सकें और सर्च इंजन सही रीड कर सके और आपका ब्लॉग टॉप पर रैंक कर सके .

On Page SEO कैसे करें

अब हम On Page SEO के कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट के बारे में जानेंगे जिससे आप सही तरीके से On Page SEO के सकें .

Website Speed

SEO में वेबसाइट की speed एक बहुत ही महत्वपूर्ण पार्ट है, जिसकी website ranking में बहुत ही अहम् role होता है . यदि आप चाहते है कि आपका ब्लॉग या वेबसाइट ranking में रहे तो आपको use इस तरह से Optimize करना पड़ेगा कि वो 3 से 4 second के अन्दर open हो जाना चाहिये .

क्योंकि एक सर्वे के मुताबिक यदि किसी ब्लॉग या वेबसाइट को open होने में 5-6 second से ज्यादा लगता है, तो visitor उसको छोड़ कर किसी और site पर चला जाता है .

जिससे सर्च इंजन की नजरों में ये Negative Effect पड़ता है और आपकी site को down कर दिया जाता है . इसीलिए आपको अपनी site की speed को अच्छे से Optimize करना चाहिये .

इसके लिये आप

  1. Simple और Leight Weight थीम का इस्तेमाल करें .
  2. अपने ब्लॉग पर Cache का use करें .
  3. ब्लॉग पर कम से कम Plugin का इस्तेमाल करें
  4. ब्लॉग पोस्ट में जो भी image अपलोड करें उसकी साइज़ कम से कम रखें .
  5. Fast होस्टिंग सर्विस का use करें .
  6. CDN का इस्तेमाल करें .

Proper Keyword का रिसर्च करें

जब आप अपने ब्लॉग का अच्छे से डिजाईन कर लेते है, तो अगला कदम होता है उस पर कन्टेन्ट का होना जिसके लिये अब आपको कुछ कन्टेन्ट लिखना पड़ेगा, लेकिन लिखने से पहले सबसे जरुरी काम होता है Keyword Research करना .

नये ब्लॉगर इसमें बहुत बड़ी गलती करते है, वो बिना सोचे समझे पोस्ट को लिखना शुरू कर देते है और वो keyword का रिसर्च नहीं करते है और आप यदि नये है तो संभवतः आप भी ये गलती करते होंगे जिसकी वजह से आपकी पोस्ट रैंक नहीं करती होगी .

बिना keyword रिसर्च किये पोस्ट को लिखने का कोई मतलब नहीं है वो कभी रैंक नहीं कर सकती है, बिना keyword रिसर्च किये कन्टेन्ट लिखने का मतलब अँधेरे में तीर मारने जैसा है .

कन्टेन्ट के लिये Keyword का मतलब है एक Question word जैसे – आपने टॉपिक चुना WordPress के बारे में आपको अपने ब्लॉग पर पोस्ट लिखना है तो आपको एक Note Paid पर WordPress से सम्बंधित सर्च किये जाने Keyword को नोट कर लें .

Keyword Find Out करने के लिये आपको कई प्रकार के Paid Tool है और Free Tool भी है जिसका use आप कर सकते है, सबसे आसान आपके लिये free में Google से keyword का रिसर्च कर सकते है जैसे आप जब गूगल पर कुछ सर्च करते है, तो उससे related keyword आपको निचे मिल जायेंगे .

Google के द्वारा आपको Keyword की जानकरी तो हो जाएगी लेकिन इससे आपको ये नहीं मालूम चलेगा कि उस keyword पर Competition कितना है, इसके लिये आपको किसी tool का use करना पड़ेगा . नए ब्लॉगर को कोशिश करना चाहिये कि वो Low Competition Keyword का use करे और Long Keyword होना चाहिये .

कन्टेन्ट लिखते समय Keyword समझ लीजिये ये उसका जड़ ( Root ) है बिना इसके proper रिसर्च के कभी रैंक नहीं हो सकता है .

Post Title

जब आप Keyword का रिसर्च कर लेते है तो अब आपको उस keyword का Title में use करना होता है और कोशिश ये करना चाहिये कि जो Main keyword है वो Title के शुरुवात में use हो .

Keyword Density

जब आप कन्टेन्ट लिखते है तो आप जिस keyword पर रैंक करवाना चाहते है उसका आपको अपने पोस्ट में ज्यादा या बार-बार use नहीं करना चाहिये . keyword का इस्तेमाल आपको सही जगह पर और सही संख्या में करना चाहिये, यदि आप keyword का इस्तेमाल बार- बार करते है तो Google आपके कन्टेन्ट को रैंक करने की बजाय और down कर देगा . आपके keyword की Density 2.5% से ज्यादा नहीं होनी चाहिये .

Meta Description

Meta Description भी आपके पोस्ट के लिये एक बहुत important है . Meta Description आपके लिये दो तरीके से useful होता है पहला कन्टेन्ट को रैंक करवाने का और दूसरा जब visitor सर्च करते है तो सबसे पहले Title और Description ही दीखता है .

इसीलिए आपको Meta Description लिखते समय ऐसा लिखना चाहिये कि user उसको पढ़ कर क्लिक भी करने के लिये मजबूर हो जाये और उस Meta Description से रैंक भी करे .

URL

आप अपने पोस्ट का यूआरएल हमेशा छोटा और सिंपल लिखना चाहिये और कोशिश करें कि Keyword का use यूआरएल में भी करें .

Image Optimization  

आप अपने कन्टेन्ट में जो भी image का use करते है उसका साइज़ कम से कम रखे जिससे आपके पोस्ट के लोडिंग टाइम पर कम से कम असर पढ़े और उसके alt attribute में keyword का use करें

Internal Link

Internal Link के द्वारा आप अपने पोस्ट को एक दुसरे से पोस्ट से Interlinking कर सकते है . इसके द्वारा पोस्ट को रैंक करने में काफी मदत मिलती है और इससे आपका ब्लॉग का Bounce Rate भी काफी कम रहेगा .

External Linking 

आपको अपने पोस्ट कन्टेन्ट से related कम से कम एक External Linking  भी करना चाहिये .

Off Page SEO क्या है

जब आपने कन्टेन्ट लिख लिया और use पब्लिश कर लिया तो अब जो भी काम उसको रैंक करने के लिये बाहेर से किया जाता है वो सब Off Page SEO होता है .

Off Page SEO में भी बहुत सारे काम किये जाते है जैसे – अपने blog को किसी पोपुलर blog पर प्रमोशन करना, comment करके backlink तैयार करना जो रैंकिंग के लिये काफी फायदेमंद साबित होता है, Web Directory Submission, किसी ब्लॉग पर Guest पोस्ट करना .

अपने ब्लॉग पर visitor बढाने के लिये Social Site पर पेज बनाना जैसे – Facebook पर और Twitter, Quora आदि .

Off Page SEO कैसे करे

Off Page SEO के लिये आपको क्या-क्या करना पड़ेगा और आप इसे कैसे करेंगे आइये जानते है .

Search Engine Submission

अपना ब्लॉग या वेबसाइट बनाने के बाद आपको कन्टेन्ट लिखना होता है लेकिन वो कन्टेन्ट आपका जल्दी से जल्दी सर्च इंजन पर इंडेक्स हो उसके लिये आपको अपने ब्लॉग को अच्छे से सबमिट करना चाहिये .

Guest Post 

Guest Post लिखने से आपको दो प्रकार का फायदा मिलता है, पहला तो आपको वहां से Traffic मिलेगी और दूसरा आपको वहां से Backlink मिलेगा .

Guest Post लिकते समय आपको ध्यान देना है की वो blog भी आपके ही Niche से related होना चाहिये और उसका DA था PA ज्यादा होना चाहिये तभी आपको उसका ज्यादा फायदा मिलेगा .

सबसे ज्यादा आपको ध्यान देना है कि जहाँ से आप Guest Post लिखकर Backlink बना रहे है उस blog का Spam Score 1% से ज्यादा नहीं होना चाहिये .

Backlinks

आपको अपने ब्लॉग के Niche से related ब्लॉग से Backlinks बनाना चाहिये, जब आप किसी High DA वाले ब्लॉग से अपने ब्लॉग का linking करते है, तो उससे आपके ब्लॉग को एक Returning Link मिलता है, जो आपके Domain Authority को बढ़ाते है .

आपको backlink हमेशा Natural तरीके से बनाना चाहिये नहीं तो ये आपके ब्लॉग के लिये नुकसान देह साबित होगा आपका ब्लॉग ranking की बजाय down हो जायेगा .

Blog Commenting

आपको अपने ब्लॉग और पोस्ट से सम्बंधित ब्लॉग पोस्ट पर comment करना चाहिये और वहां पर अपने blog पोस्ट का लिंक देकर एक backlink प्राप्त कर सकते है .

Forum Submission

आपको फोरम में में भी अपना account बनाना चाहिये वहां से आपको दो तरह का फायदा होगा एक तो आपको वहां से Do Follow Backlink मिलेगा और फोरम में बहुत सारे एक्सपर्ट join होते है जिनसे आपको काफी कुछ सिखने को मिल सकता है .

Social Media

आपको अपने ब्लॉग या website का पेज social site पर बनाना चाहिये और वहां पर अपने ब्लॉग और पोस्ट का लिंक शेयर करना चाहिये .

Directory Submission

आपको अपने ब्लॉग को High PR वाली directory में सबमिट करना चाहिये .

Question And Answer Site

आपको Question And Answer site से भी जुड़ना चाहिये जैसे Quora जहाँ पर बहुत सारे question पूछे जाते है और एक्सपर्ट लोग अपना जवाब देते है . आप यहाँ answer देकर अपनी ब्लॉग का लिंक दे सकते है .

Local SEO क्या है

लोकल SEO जो नाम से प्रतीत होता है कि ये अपने लोकल area से सम्बंधित है, ये एक नयी तकनीकी है जिसको अपना नजदीकी Visitor की ध्यान में रखकर Optimize क्या जाता है .

इस प्रकार का Optimization खासतौर पर उन लोगो के लिये ज्यादा फायदेमंद होता है, जो कोई business करने के लिये अपना website बनाये है और वो लोकल area के लोगों के लिये हो जैसे –

आपका कोई Hotel या Restaurant है तो ऐसे में आप लोकल Visitor Target करेंगे जिसके लिये आपको Local SEO करने की जरुरत पड़ेगी आपको City का नाम और Location पूरा Address देना पड़ेगा जिससे कोई उस area में आपके website से related कुछ सर्च किया जाये तो ranking में आपका website आये .

वैसे कोई ब्लॉग या website internet पर पूरे World को target करने के लिये होता है, लेकिन कुछ चीजो सिर्फ लोकल के लिये होती है, जिसमे Local SEO की जरुरत पड़ती है .

SEO करने के क्या फायदे है

SEO करने से कई प्रकार के फायदे होते जो इस प्रकार है .

  1. SEO का सबसे ज्यादा फायदा ranking में होता है .
  2. SEO करने से आपको Organic Traffic मिलती है जो किसी भी ब्लॉग या website की सफलता के लिये सबसे जरुरी है .
  3. SEO करके आप अपने blog और website को First Page पर और First position पर ला सकते है .

SEO हिन्दी में

आज आपको SEO Kya HaiWhat is SEO in Hindi एसईओ कैसे करें 2020 के बारे में कुछ Basic जानकारी देने की कोशिश मैंने किया, और आपको Types Of SEO तथा On Page SEO क्या है, Off Page SEO क्या है सभी के बारे में जानकरी की कोशिश की गयी है .

उम्मीद करते है अब आप अपने ब्लॉग या website का अच्छे से SEO कर लेंगे और use रैंक भी कर लेंगे यदि आपका SEO Kya Hai या SEO Kaise Kare इससे जुड़ा कोई सवाल या सुझाव है तो हमे comment करके जरुर बतायें, और जानकरी यदि आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरुर करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *