PHP Full Form In Computer / PHP kya hai

PHP kya hai, PHP Full Form In Computer, PHP kaise sikhe – दोस्तों आज हम जानेंगे PHP के बारे में , PHP क्या है , PHP का पूरा नाम क्या है , PHP कैसे सीखे , PHP का इतिहास क्या है , PHP की विशेषतायें क्या है , PHP से सम्बंधित और भी जरुरी जानकारी को जानेंगे .

PHP Full Form In Computer

यदि आप अपना कोई website बनाना चाहते है तो आपको PHP जरुर सीखना चाहिये तभी आप एक अच्छा website बना सकते है . आज आपको इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकरी देंगे .

PHP Full Form In Computer

PHP का फुल फॉर्म जानते है

PHP Full Form In English

Hypertext Preprocessor

पहले इसे Personal Homepage कहा जाता था .

PHP Full Form In Hindi / PHP का हिन्दी में पूरा नाम

हाइपरटेक्स्ट प्रीप्रोसेसर

PHP kya hai ( What is PHP )

PHP Full Form in computer – Hypertext Preprocessor है ये दुनिया का एकमात्र open source Scripting Language है . इसका use website design करने के लिए किया जाता है . PHP एक Server Scripting language है , और इस language का use डायनमिक web page बनाने के लिये किया जाता है . इस language का use बड़ी – बड़ी website बनाने के लिए किया जाता है . ये डायनामिक और स्टेटिक वेबसाइट बनाने के लिए बहुत ही पावरफुल टूल होता है .

Website designing में इसका use किया जाता है और इसमें C, C++, Java जैसे कोड लिखे जाते है , code और program कंप्यूटर के अन्दर execute होते है .

PHP का use आप free में कर सकते है . PHP का use यूनिक्स, लिनक्स , विंडोज़ में किया जा सकता है . PHP एक ऐसी scripting language है जो web application और web page को server side में कंट्रोल करने के लिए उपयोगी होता है .

PHP Use Kaha Hota Hai

PHP का use कई प्रकार से किया जा सकता है . PHP एक बहोत ही powerful language है इस बात का अंदाजा आप ऐसे लगा सकते है दुनिया में सबसे ज्यादा use किया जाने वाला social site Facebook , PHP से ही design किया गया है .

Server Side Scripting – PHP का मुख्य कार्य Server Side Scripting होता है . PHP language को इसीलिये बनाया गया था . इसके लिए आपको एक PHP Parser, Web Server और Web Browser की जरुरत पड़ती है .

Command Line Scripting – PHP Code को आप बिना Server या Browser के भी Run किया जा सकता है . इसके लिए आपको सिर्फ PHP Parser की आवश्यकता पड़ती है , और Text Processing के लिये भी इसका use किया जा सकता है .

Desktop Application – PHP के द्वारा Desktop Application भी create किया जा सकता है .

PHP ka Itihas ( History of PHP )

1994 में Rasmus Lerdorf ने अपने online resume वाली website में आने वाले visitors को count करने के लिए PHP को बनाया था जिसे “Personal Home Page Tools” नाम दिया गया था .

Rasmus की बड़ी सोच व अधिक कार्यक्षमता के चलते उन्होंने php tool को दुबारा लिखना शुरू किया और एक नया php model तैयार हुआ . इस नए मॉडल का database interaction और अधिक सक्षम था . इसके जरिये user को एक framework provide किया गया . जिसकी सहायता से user simple dynamic web applications जैसे – guestbook develop किये जा सकते थे .

June 1995 में Rasmus ने php में कुछ और बदलाव किये तथा source code जारी किया . जिससे developer’s इस code की help से बनाये गए Dynamic web applications पर सुधार कर सकते थे साथ ही कोड में bugs को भी fix किया जा सकता था . जिससे ये काफी user फ्रेंडली हो गया .

इसके बाद इसमें कई और सुधर किया गया और फिर programming language भी develop किया गया . 1997 में PHP का पहला संस्करण पब्लिश किया गया 3.0 ये पहले के संस्करण से काफी ज्यादा सक्षम था . ये संस्करण आने के बाद PHP के काफी ज्यादा limitation ख़त्म हो गया . जिसके बाद इसका नाम बदलकर personal homepage से hypertext preprocessor रखा गया . इसके बाद इसके कई और नये संस्करण पब्लिश किये गए 3.0 के बाद 4.0 और उसके बाद 5.0 पब्लिश किया गया है आज का PHP इतना powerful है जिससे बड़ी – बड़ी website develop की जाती है .

PHP kaise Sikhen

यदि आप इंग्लिश में PHP को सीखना चाहते है तो उसके लिये आपको बहोत सारी books मिल जायेंगे जिससे आप PHP को सीख सकते है और इसके अतिरिक्त आप PHP को ऑनलाइन भी सीख सकते है इसके लिये बहोत सारी ऐसी website मिल जायेंगी जहाँ से आप PHP को सीख सकते है .

PHP सीखने के लिये Resources खोजे – PHP सीखने के कई तरीके है, जैसे – Online courses, Php Books, Php Learning Websites, Youtube, Php Apps और Php Classes. in सभी विकल्प में से आप अपने हिसाब से सही विकल्प चुन सकते है .

यदि आप paid learning की तरफ नही जाना चाहते तो आप Internet का सहारा ले सकते है . कई websites है जो php की information free में share करती है . जैसे- Codecourse, Phpmanual, Killerphp, W3school आदि .

यदि हिंदी में PHP सीखना है तो इसकी मार्केट में बुक्स उपलब्ध नहीं है. हिंदी में PHP सीखने के लिए आप Bccfalna.Com से PHP की Pdf Format Ebook ख़रीद सकते है यह हिंदी में PHP सीखने के लिए एक बहुत ही अच्छी बुक है . इस बुक में Object Oriented PHP जैसे advance concept को बताया गया है .

Advantages Of PHP

PHP language के कुछ फायदे होते है आइये उसके बारे में जानते है .

  • इसका syntax बहुत आसान है इसलिए इसे बड़ी आसानी से सीखा जा सकता है .
  • PHP language के लिये कोई पैसा नहीं लिया जाता है ये बिलकुल free है इसको ऑफिसियल website से download कर सकते है .
  • आज के server के लिये PHP बिलकुल अनुकूल है .
  • PHP को अलग-अलग Platform पर Run कराया जा सकता है। जैसे – Linux, Unix, Windows, Mac, Os X आदि .
  • इसका execution speed बहुत fast होता है .
  • नये technology और feature के साथ पीएचपी के versions लगातार update होते रहते हैं .
  • PHP के साथ सिर्फ MySQL ही नही बल्कि अन्य प्रकार के डेटाबेस जैसे MS SQL Server, Oracle आदि भी उपयोग किये जा सकते हैं .

Disadvantage of PHP

  • PHP open source है इसलिए इसके source code को कोई भी देख सकता है ऐसे में यदि code में कोई bug हो तो उसका गलत फायदा उठाया जा सकता  है .
  • PHP के बड़े web पेज को manage करना काफी मुश्किल होता है .

Feature of PHP

PHP एक बहोत ही powerful language है इसकी कुछ विशेषताए खुद की है आइये जानते है इसके बारे में .

  1. Simple .
  2. Faster .
  3. Interpreted .
  4. Open source .
  5. Case Secretive .
  6. Simplicity .
  7. Efficiency .
  8. Platform Independent .
  9. Error Reporting .
  10. Security .
  11. Loosely typed Language .
  12. Flexibility .
  13. Real Time Access Monitoring .
  14. Familiarity .

Static Web Page kya hai

Static web पेज वो होते जहाँ पर सरे web पेज fixed होते उसमे कोई बाहरी user कोई change नहीं कर सकता है उसमे कोई भी change सिर्फ owner ही कर सकता है . static पेज सभी user के लिए अक जैसे ही होते है चाहे वो नया हो या पुराना user हो .
जैसे – About US , Contact US ये सब पेज कभी बदलते नहीं है ये सबके लिये एक जैसे ही होते है .

Dynamic Web Page kya hai

डायनामिक पेज सभी user के लिये अलग – अलग रहता है . इसमें सभी user अपने तरफ से change कर सकते है जैसे Facebook पर कोई भी user लॉग इन करके कुछ बदलाव कर सकता है ये सभी user का अलग – अलग open होता है .Online Shopping website भी प्रत्येक user के सर्च के हिसाब से अलग – अलग open होती है .

Conclusion

दोस्तों आज हमने जाना PHP के बारे में PHP kya hai /PHP Full Form In Computer , PHP का पूरा नाम क्या है , PHP कैसे सीखे , PHP का इतिहास क्या है , PHP की विशेषतायें क्या है , PHP से सम्बंधित और भी जरुरी जानकारी को हम जानेंगे .

उम्मीद करते है आपको PHP kya hai /PHP Full Form In Computer ये सब जानकारी पूरी तरह से समझ में आ गया होगा . यदि आपका इससे सम्बंधित कोई सवाल है तो आप comment box में comment कर सकते है , हम आपके सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे .

यह भी जानें…

दोस्तों आपको PHP kya hai /PHP Full Form In Computer और PHP से जुड़ी हुयी सभी जानकारी कैसी लगी और यदि आपका कोई सुझाव हो तो हमे comment करके जरुर बतायें और यदि आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Social Media पर शेयर जरुर करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *