DM Full Form In Hindi / DM Kaise Bane, Exam, Syllabus

DM Kya Hota Hai, DM Kaise Bane, Dm Full Form in Hindi, DM Ki Salari Kitni Hoti Hai – दोस्तों आज हम जानेंगे डीएम के पद के बारे में , डीएम क्या होते है , डीएम कैसे बनें , डीएम बनने के लिये क्या योग्यता होनी चाहिये ,डीएम बनने का चयन प्रक्रिया क्या है , डीएम के exam का pattern क्या है , डीएम की salary कितनी होती है , डीएम की तैयारी कैसे करे डीएम के पद से सम्बंधित और भी जरुरी जानकारी को हम जानेंगे .

DM Full Form In Hindi

DM Full Form In Hindi

डीएम का हिन्दी में पूरा नाम

जिला दंडाधिकारी / जिला न्यायाधीश

Full form Of DM

DM Ka Full Form

District Magistrate

DM Kya Hota Hai

डीएम जिला अधिकारी को कहा जाता है . District Magistrate को District Collector भी कहते है . जिसे जिले का मुखिया भी कहते है . डीएम पूरे जिले का मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रशासनिक तथा राजस्व अधिकारी भी होता है . डीएम को जिला न्यायाधीश भी कहा जाता है . प्रत्येक जिले में एक न्यायालय होता है . न्यायालय में जो न्यायाधीश होते है उन्हें जिला न्यायाधीश कहते है .

DM Kaise Bane

डीएम बनने के लिये उम्मीदवार को कुछ योग्यताओं को पूरा करना होता है जिसके बाद वो डीएम बनते है आइये इसके बारे में विस्तार से जानते है .

Qualification For DM / शैक्षणिक योग्यता

जिला न्यायाधीश बनने के लिये किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन पास होना अनिवार्य है . वो चाहे किसी भी स्ट्रीम से हो .

Age Limit For DM / आयु सीमा

जिला न्यायाधीश बनने के लिए प्रत्येक वर्ग के लिए अलग-अलग आयु सीमा निर्धारित की गयी है .

  • General वर्ग के उम्मीदवार के लिये न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष और अधिकं 30 वर्ष निर्धारित किया गया है .
  • OBC वर्ग के उम्मीदवार के लिये न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष और अधिकं 33 वर्ष निर्धारित किया गया है .
  • SC/ST वर्ग के उम्मीदवार के लिये न्यूनतम 21 वर्ष और अधिकतम 35 वर्ष निर्धारित किया गया है .

Selection Process For DM / चयन प्रक्रिया

जिला न्यायाधीश बनने के लिए  UPSC – Union Public Services Commission द्वारा आवेदन जारी किया जाता है  . UPSC में होने वाली CSE( सिविल सर्विस एग्जाम) पास करना होता है . इसमे 3 तरह की चयन प्रक्रिया रखी गयी है जिसके आधार पर IAS का चयन किया जाता है बादमे पदोन्नति से  जिला न्यायाधीश पद पर चयन किया जाता हैं .

  1. प्रारम्भिक परीक्षा – PRELIMINARY EXAM
  2. मुख्य परीक्षा – MAIN EXAM
  3. साक्षात्कार – INTERVIEW

Exam Pattern for DM / परीक्षा पैटर्न

डीएम बनने के लिये परीक्षा 3 चरणों में होता है

1 . प्रारम्भिक परीक्षा – PRELIMINARY EXAM

UPSC के लिये आवेदन करने के बाद ये पहला चरण होता है जिसमे सभी आवेदन करने वाले अभ्यार्थी भाग ले सकते हैं .

2 . मुख्य परीक्षा – MAIN EXAM

जो भी अभ्यार्थी प्रारंभिक परीक्षा को पास कर लेते है उन्हें मुख्य परीक्षा में अवसर मिलता है , यह दूसरा चरण होता है . व जिला न्यायाधीश बनने के लिए ये अन्तिम लिखित परीक्षा है .

3 . साक्षात्कार – INTERVIEW

जो भी अभ्यार्थी दोनों परीक्षाओं में पास हो जाते है उन्हें साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता जिसमे कुछ अधिकारी आपसे कुछ सवाल जवाब करेगे व उसमे आपके प्रदर्शन के आधार पर आपको marks दिये जाते हैं .

DM Ki Salary Kitni Hoti Hai

सरकार द्वारा डीएम को मासिक वेतन लगभग 70 हजार से 1 लाख 50 हजार तक मिलती है , जो सेवाकाल के अनुसार बढती रहती है . इसके आलावा एक डीएम को अन्य सुविधायें और भत्ते भी मिलते है . जैसे –

  • एक डीएसपी को ड्राइवर के साथ एक आधिकारिक वाहन दिया जाता है .
  • एक डीएसपी को आधिकारिक यात्राओं के दौरान उच्च श्रेणी आवास दिया जाता है .
  • एक डीएसपी के बिजली के बिलों का भुगतान सरकार के द्वारा किया जाता है .
  • एक डीएसपी को बिना किसी कीमत पर या मामूली किराए पर स्वयं और कर्मचारियों के लिए निवास दिया जाता है .
  • एक डीएसपी को एक टेलीफोन कनेक्शन मिलता है जिसका बिल सरकार के द्वारा भुगतान किया जाता है .
  • एक डीएसपी को सुरक्षा गार्ड और घरेलू नौकर जैसे रसोइया और माली दिया जाता है .

DM Ki Taiyari Kaise Kare

  1. DM की तैयारी के लिए सबसे पहले आपको पिछले सत्र के प्रश्न अच्छे से पढने चाहिए इससे आपको DM की तैयारी के लिए अधिक से अधिक जानकारी आपको प्राप्त होगी
  2. आपको अपना General Knowledge बढ़ाना होगा। इसके लिए Books पढ़े। और Daily News Paper पढ़े .
  3. कानूनी किताबो को अधिक से अधिक पढे क्युँकि न्यायालय कानून पर आधारित है इसलिए कानूनी जानकारी होनी अनिवार्य हैं .

इस परीक्षा की तैयारी के बारे में और विस्तृत जानकारी के लिये ये पोस्ट पढ़ें .

DM Ke Karya

डीएम एक जिले का मुख्य अधिकारी होता है , एक डीएम के के रूप में इनके कई पारकर के दायित्व होते है .

  • जिले में शासन व्यवस्था बनाये रखना एक डीएम की जिम्मेदारी होती है .
  • पुलिस और जेलों का निरिक्षण करना .
  • जिले में उसके अंतर्गत काम करने वाले अन्य अधिकारीयों के गतिविधियों पर नजर रखना .
  • सभी कार्यों की मंडल आयुक्त को जानकारी देना .
  • जिले में घटित अपराधिक घटनाओं की रिपोर्ट सरकार के सामने प्रस्तुत करना .
  • जब मंडल आयुक्त उपस्थित नहीं होते है, तो जिला विकास प्राधिकरण के पद पर अध्यक्ष के रूप में कार्य करते है .

Conclusion

दोस्तों आज हमने जाना डीएम के पद के बारे में DM Kaise Bane , DM Full Form In Hindi क्या होता है , डीएम क्या होते है , डीएम कैसे बनें , डीएम बनने के लिये क्या योग्यता होनी चाहिये ,डीएम बनने का चयन प्रक्रिया क्या है , डीएम की तैयारी कैसे करे डीएम के पद से सम्बंधित और भी जरुरी जानकारी को हमने जाना .

उम्मीद करते है आपको DM Kaise Bane , DM Full Form In Hindi तथा डीएम की पोस्ट से जुड़ी हर जानकारी पूरी तरह से समझ में आ गया होगा . यदि आपका इससे सम्बंधित कोई सवाल है तो आप comment box में comment कर सकते है , हम आपके सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे .

दोस्तों आपको DM Kaise Bane , DM Full Form In Hindi और डीएम के पद से सम्बंधित सभी जानकारी कैसी लगी और यदि आपका कोई सुझाव हो तो हमे comment करके जरुर बतायें और यदि आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ Social Media पर शेयर जरुर करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *